Thursday, October 6, 2011


पूज्य बापूजी –
तेरे सिवा कुछ था नहीं, है नहीं, हो सकता नहीं । ये भ्रम है कि मुझे एकांत चाहिए अथवा ये चाहिए, वो चाहिए । - (29-9-11 हरिद्वार)
Tere siva kuch tha hi nahi,hai nahi,ho sakta nahi.Ye bhram hai ki mujhe ekant chahiye athva ye chahiye,vo chahiye.- (29-9-11 Haridwar)
प्रेम किस से होता है ? जिस में अपनत्व है, अपनापन जहाँ से शुरू होता है, वो है साक्षात् अपरोक्ष ! –(11-9-08, रजोकरी)
Prem kis se hota hai? jis me apanatv hai, apanaapan jaha se shuru hota hai, wo hai sakshat aparoskh! -(11-9-08 , rajokari)


पूज्य बापूजी के सद्गुरु/सतशिष्य -
केवल पुरुषार्थ करना ही पर्याप्त नहीं है, किन्तु आपका पुरुषार्थ किस दिशा में हो रहा है, यह देखना भी जरूरी है । नश्वर की दिशा में या फिर शाश्वत की दिशा में ? संसार की चीजों की प्राप्ति के लिए जितना यत्न करते हो, उससे आधा भी भगवान की प्राप्ति होने के लिए यत्न करो तो जीवन की शाम होने से पहले जीवनदाता से मुलाक़ात हो सकती है । -(श्री नारायण साईं)
Keval purusharth karna hi paryapt nahi hai, kintu apka purusharth kis disha mein ho raha hai, yeh dekhna bhi jaruri hai. Nashwar ki disha mein ya phir shasvat ki disha mein? Sansaar ki cheejon ki prapti ke liye jitna yatn karte ho, usse aadha bhi Bhagvaan ki prapti hone ke liye yatn karo to jeevan ki shaam hone se pehle jeevandaata se mulakaat ho sakti hai.-(Shri Narayan Sai)


आश्रम vcd / dvd/ mp3 –
पापी को भी हीन नजर से न देखो, क्या पता कब वो पूजने योग्य हो जाये । जिसका तुम अपमान करते हो क्या उसकी गहराई में सम्माननीय तुम्हारा परमेश्वर नहीं छुपा है ? कब वो उसके हृदय में करवट लेकर प्रकट हो जाये । -वीसीडी -पी ले ध्यान की भांग
Paapi ko bhi heen najar se na dekho, kya pta kab wo pujne yogya ho jaaye . jiska tum apmaan karte ho kya uski gehraai mein sammaanniy tumhara parmeshwar nahi chupa hai ? kab wo uske hriday mein karvat lekar prakat ho jaaye . -vcd -Pee le dhyan ki bhang


आश्रम सत्साहित्य-
जो सर्वत्र अपने ही स्वरूप को देखता है वह क्यों हिलेगा ? उसका दिल एक आत्मदेव बिना कुछ और देखता ही नहीं । चाहे तारे टूट पड़ें, समुद्र जल उठे, हिमालय उड़ता फिरे, सूर्य मारे ठंड के बर्फ का गोला बन जाए – आत्मदर्शी ज्ञानवान को इससे क्या हैरानी हो सकेगी ? उसकी आज्ञा के बाहर कुछ भी नहीं हो सकता । -(ऋषि प्रसाद )
Jo sarvatr apne hi svaroop ko dekhta hai vah kyu hilega? Uska dil ek aatmdev bina kuch aur dekhta hi nahi. Chahe tare tut pade, samudr jal uthe, himaalay udta fire, sury maare thand ke barf ka gola ban jaaye – aatmdarshi gyaanvaan ko isse kya hairaani ho sakegi? Uski aagya ke baahar kuch bhi nahi ho sakta. -(Rishi Prasaad)


आश्रम भजन-
दाता हो दाता, तुम ही हो मेरे विधाता,
जाता ना जाता, तुम बिन है रहा ना जाता,
हम सब भक्तों की आँखों के तारे हो,
मेरे प्यारे गुरुवर, तुम हमारे हो......
Daata ho daata, tum hi ho mere vidhaata,
Jaata na jaata, tum bin hai raha na jaata,
Ham sab bhakto ki aankho ke taare ho,
Mere pyaare Guruvar, tum hamaare ho……


स्वामी रामसुखदास जी-
सभी मनुष्य भगवत्प्राप्ति के अधिकारी हैं, चाहे वे किसी भी वर्ण, आश्रम, सम्प्रदाय, देश, वेश आदि के क्यों न हों ! इस जगत को भगवान्  का ही स्वरूप मानकर प्रत्येक मनुष्य भगवान् के विराट् रूप के दर्शन कर सकता है ।
Sabhi manushy bhagvatprapti ke adhikaari hain, chahe ve kisi bhi varn, aashram, samprdaay, desh, vesh aadi ke kyon na ho! Is jagat ko Bhagvaan ka hi svaroop maankar partyek manushy Bhagvaan ke viraat roop ke darshan kar sakta hai.


श्री रामकृष्ण परमहंस जी/ स्वामी विवेकानन्द जी –
ईश्वर को निराकार जानकर विश्वास रखने से भी उसकी प्राप्ति होती है और उसको साकार जानकर उस पर विश्वास करने से भी उसकी प्राप्ति होती है । मुख्य बात यह है कि उसके किसी भी स्वरूप पर विश्वास करो और संपूर्ण रूप से उसकी शरण में जाओ ।-श्री रामकृष्ण परमहंस जी
Ishwar ko nirakaar jaankar vishvaas rakhne se bhi uski prapti hoti hai aur usko saakar jaankar us par vishvaas karne se bhi uski prapti hoti hai. Mukhya baat yeh hai ki uske kisi bhi svaroop par vishvaas karo aur sampurn roop se uski sharan mein jao. -  Shri  RamKrishan Paramhansji


सुवाक्य –
रास्ता खुला है, सत्य चमक रहा है, जो तुम्हें बुला रहा है, वही तुम्हारी प्रार्थना भी सुन रहा है, फिर शंका का और वक्त गँवाने का क्या काम ? यह या तो तुम्हारा मोह है अथवा आलसी स्वभाव है ।
Raasta khula hai, satya chamak raha hai, jo tumhe bula raha hai, wahi tumhari prarthna bhi sun raha hai, phir shanka ka aur vakt gavaane ka kya kaam? yeh ya to tumhara moh hai athva aalsi svabhaav hai.


संत वाणी-
बाहरी युद्धों से क्या ? स्वयं अपने से ही युद्ध करो । अपने से अपने को जीतकर ही सच्चा सुख प्राप्त होता है । स्वयं पर ही विजय प्राप्त करनी चाहिये । अपने पर विजय प्राप्त करना ही कठिन है । आत्म-विजेता ही इस लोक और परलोक में सुखी होता है । -(भगवान महावीर जैन )
Baahri yuddho se kya? Svayam apne se hi yuddh karo. Apne se apne ko jeetkar hi saccha such prapt hota hai. Svayam par hi vijay prapt karni chahiye. Apne par vijay prapt karna hi kathin hai. Aatm-vijeta hi is lok aur parlok mein sukhi hota hai. -(Bhagvaan Mahavir Jain)


दोहा –
भयनाशन दुर्मति हरण, कलि में हरि का नाम।
निशदिन नानक जो जपे, सफल होवहिं सब काम।।
Bhaynaashan durmati haran, kali mein hari ka naam
Nishidin nanak jo jape, safal hovahee sab kaam.

2 comments:

  1. hey hari meri bhi durmati or durguno ko har lo..............
    apne aap se lad-lad kar m haar gya hoon. ye ab mujhse nahi hoga. kewal aap ki hi tek h....
    aap ki hi aas h.
    hey hari... shree hari..... oooo hari.....

    ReplyDelete
  2. very nice

    om om om om om om om

    ReplyDelete